साथी

Thursday, April 29, 2010

तिपतिया : बड़े शहर की हसीनाएँ

तिपतिया के अन्तर्गत 'बड़े शहर की हसीनाएँ' रचना के साथ लगे फ़ोटो के बारे में एक स्पष्टीकरण देना ज़रूरी है। यह जो युवती का चित्र साथ में लगा है, यह कोई वास्तविक चित्र नहीं है।
वास्तव में एक और बात थी जिसने इस चित्र के संदर्भ को मज़बूत किया। मेरी रचना में सोच थी कि - "ये हसीं पुतलियाँ क्या फ़ैक्ट्रियों में बनती हैं?"
और ये सुन्दरी वाकई फ़ैक्ट्री में निर्मित हुई है, ऐसा ही समझिए।

यह चित्र एक मॉडल "तिका" के चित्र पर आधारित अवश्य है, पर है यह एक कलाकार की चित्रकला का अद्भुत नमूना और वास्तविक से भिन्न। इस चमत्कारी चित्र वाली युवती का केवल चित्र में ही अस्तित्त्व है। इसे चित्रकार ने लगभग 70 घण्टों के अथक परिश्रम से तैयार किया है और इसको नाम दिया है - "TICA"।
इस कृति को रचा है श्री Dru Blair ने और इसका पूर्ण विवरण यहाँ उपलब्ध है -
http://www.drublair.com/comersus/store/tica.asp
इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


6 comments:

PADMSINGH said...

हिमांशु जी मैंने फोटो देखा ... बार बार देखा लेकिन भरोसा नहीं होता कि किसी पेंटर ने ऐसी चित्रकारी की है ... फिर भी आपका कहा मानता हूँ ... बहुत सुंदर

PADMSINGH said...

हिमांशु जी मै वर्डप्रेस पर लिखता हूँ ब्लॉगर पर भी ब्लॉग पनाना चाहता हूँ लेकिन अच्छे टेम्पलेट नहीं मिलते हैं ... आपका ये टेम्पलेट अच्छा लगा क्या आप मेरी कोई हेल्प कर सकते हैं..?
दूसरी बात कहनी है कि इस ब्लॉग पर मै अपने वर्डप्रेस के एड्रेस से कमेन्ट नहीं कर सका ... केवल गूगल एकाउंट का आप्शन खुला है... कृपया ओपन आईडी या नाम यू आर एल से कमेन्ट खोलें

हिमान्शु मोहन said...

@Padm Singh
भाई पद्मसिंह जी, मेरी अज्ञानता-वश आपको हुई कठिनाई के लिए (जो शायद औरों को भी होती होगी), क्षमायाचना सहित आभार।
आप यदि ब्लॉगर में प्रवेश के समय draft.blogger.com पर प्रवेश करें और फिर चाहें तो इसे ही डिफ़ाल्ट भी बना सकते हैं, तब ले-आउट या अन्य सेटिंग्स बदलना चाहें तो बहुत से नए ऑप्शन मिलेंगे, आप कई टेम्प्लेट्स में इन कॉलमों की चौड़ाई भी बदल सकते हैं।

Amitraghat said...

"वाह क्या चित्रण था....अविश्वसनीय..."

PADMSINGH said...

आपको शुक्रिया देने दुबारा आया हूँ ... अज्ञानी की आँखें खुल गयी हैं ... बहुत धन्यवाद आपका

Udan Tashtari said...

अद्भुत कलाकृति है...विश्वास नहीं होता.